Deled Course 507 Assignment 3 Answer

Share:
Deled course 507 assignment 3 का answer के साथ आया हु जो 1000 word में है इसे आप भी अपने assignmnet में कम से कम 1000 शब्दो में उत्तर देना का प्रयास करे |

इसका उत्तर मैंने nios की deled pdf से छाट कर लिखा है अतः अगर कोई उत्तर में कोई त्रुटी मिले तो इसे आप अपने आप सुधार कर अपने असाइनमेंट में लिख ले और हमें कमेंट के द्वारा सूचित भी कर दे
Deled Course 508 Assignment 1 Answer 1
deled course 507 assignment 3 assnwer

प्रश्न: किसी विद्यालय के प्रबंधन हेतु किस प्रकार के संसाधनों की आवश्यकता होती हैं ? अपने विद्यालय में मानव संसाधन प्रबंधन हेतु किन्हीं तीन व्यवहारिक सुझावो को लिखिए तथा इन सुझाओं को लागु करने की योजना लिखिए |
उत्तर: किसी संस्था के प्रभंधन में कई संसाधनों का प्रयोग प्रतिफल प्राप्त कने के लिए विभिन्न प्रक्रियाओ द्वारा किआ जाता है उधाहरण के लिए विद्यालय प्रभंधन में इनपुट है : इन्फ्रास्ट्रक्चर, सुविधाए, निधिया, शिछक, विधार्थी शिक्षण-अधिगम विधिया तथा सामग्री | विधथियो की पथ्य तथा पाठ्य- सहगामी क्रियाओ में उपलब्धि, शिक्षको का व्यावसायिक विकास आदि आउटपूट है |

शिक्षण-अधिगम क्रियाये, अनुशासन , वातावरण तथा अन्य शैचिच्क कार्य विद्यालय-प्रक्रियाओ के अंतर्गत आते है इस प्रकार इनपुट में शामिल है : मैंनपावर (पुरुष एवं महिला) सामग्री, मशीनरी, विधिया धन| इनको प्रबधन के ५ एम्स कहते है |


मानव संसाधन 

एक गाव में किसानो द्वारा फसल उगने की प्रक्रिया के बारे में कुछ समय के लिए चिंतन करे | वे वास्तव में मानव संसाधन है क्युकी वे फसल उत्पादन की प्रक्रिया द्वारा भूमि को उपजाऊ बनाते है | (अ) हल जोत कर खेत तैयार करना (ब) बीज बोना (स) निराई करना (द) सिचाई करना (य) खाद करना (र) फसल को बीमारी से बचाने के लिए कीट-नाशक डालना (ल) उत्पादित फसल का भंडारण | ये सभी प्रक्रियाओ में मानव-प्रयासों  की आवश्यकता होती है | साथ ही फसल उगाने का ज्ञान, पारिवारिक श्रमिको का संगठन, यदि वे क्रियाये के किसान है तो श्रमिको की व्यवस्था करना, बीजों की व्यवस्था करना, खाद, कीटनाशक, सिचाई तथा फसलो को उगाने हेतु खेतो की मशीनरी आदि की व्यवस्था भी आवश्यक है यदि फसल के उत्पादन में कमी होती है तो भी वे फसल उगाने का प्रयास जारी रखते है |

फसल उगाने का यह ज्ञान तथा कौशल मानव संसाधन माना जाता है | किसी भी प्रकार का गलत निर्णय, विलम्ब या असावधानी से किसानो को आर्थिक हानि हो सकती है क्योकि फसल उगाने में प्रकृति एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है जो की मनुष्य के नियंत्रण से बाहर है | फिर भी यहाँ पर यह विचार रखने का प्रयास किया जा रहा है की एक राष्ट्र, समाज तथा समुदाय के लिए आय प्राप्त कने में मानव संशाधन बहुत महत्वपूर्ण है विद्यालयी प्रक्रिया में भी यह कुछ हद तक लागू होता है | यहाँ शिछक तथा प्रबंधक विध्याथियो को शिछित तथा प्रशिचित व्यक्तियो में परिवर्तित करने हेतु प्रयास करते है जो अपने जीवन को बेहतर बनाए तथा अपने परिवार के जीवन की गुडवत्ता को बढ़ाने योग्य हो जाते है | साथ ही वे अपने देश की आय में वृद्धि के लिए योगदान भी करते है |

मानव संशाधन हेतु तीन सुझाव 

सिखने सिखाने की प्रक्रिया में परिवर्तन

विद्यालय नेता के रूप में, आप यह सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदार है की सभी छात्रो को सीखने में पूरी तरह से भाग लेने के लिए अवसर और सहायता मिले | ऐसा तभी संभव होगा यदि संशाधनो का प्रभंधन प्रभावी ढंग से और सीखने की प्रक्रिया को सुधरने के स्पष्ट प्रयोजन के साथ किआ जाए |

अपने विद्यालय के भीतर और बाहर अपेछा से से कम उपयोग में लाये गए संशाधनो की पहचान करना 

अब आप विचार करने जा रहे है की आपने जिन मौजूदा संशाधनो की पहचान शिक्ष के समर्थन के लिए की है आपका स्टाफ उनका उपयोग कितनी अच्छी तरह से करता है | आपके पास सभी कछाओ में ब्लैकबोर्ड होगे लेकिन छात्रों की सक्रिय सिच्छा के लिए कितनी अच्छी तरह और कितनी बार उनका उपयोग किया जाता है ? संभव है उनका बहुत अधिक उपयोग नहीं किया जा सकता है क्योकि उनका काला पेंट इतना घिस चुका होता है की उस पर लिखी है बाते कच्छा के पीछे बैठे छात्रो को स्पष्ट नहीं दिखती है |


सीखने के लिए संशाधनो का उपयोग उनकी पूरी क्षमता तक करना 

इसके बाद आप जरुरत से कम उपयोग में लाये गए संशाधनो का उपयोग सुचारने के तरीके खोजेगे और सोचेगे की आप अपने विद्यालय में इस पहले न पहचाने गए संशाधनो तक पहुच का और उनका उपयोग करके अपने छात्रो के लिए सीखने के सुधरे हुए नतीजों में योगदान कैसे करेगे | इन संशाधनो को आपके विद्यालय में अध्यापन और सीखने का नियमित हिस्सा बनाने के लिए कुछ रचनात्मक चिंतन और कुछ संयोजन की जरूरत पड़ सकती है |

No comments