Nios Deled Course 510 Assignment 3 Answer in HIndi

Share:
Nios Deled course 510 Assignment 3 Answer in Hindi. मैंने यहा पे question के साथ ये 510 का आखिरी उत्तर भी लिख दिया है आशा है आपको ये पसंद आयेगा |

जल्द से जल्द scince medium के स्टूडेंट इसे अपने असाइनमेंट में लिख कर जमा करे |
इसे मैं nios deled pdf से छांट कर लिखा है गलती मिलने पर आप इसमें सुधर कर के लिखे |

प्रश्न 1) कक्षा सात की विज्ञान पाठ्यपुस्तक से अपनी पसंद का एक पाठ चुने और खोज उपागम पर आधारित एक उपयुक्त पाठ योजना बनाये |

उत्तर 1)

जांच उपागम उया प्रक्रिया कौशल

विभिन्न विशेषज्ञों द्वारा कई जांच उपागम प्रस्तावित किये गए गए है | इन सब उपागमो में एक चीज सामान है वह है शिक्षक द्वारा इस उपागम के विवेकपूर्ण प्रयोग से शिक्षार्थी प्रक्रिया कौशल विकसित कर लेते है | इस उपागम को रिचार्ड सुकमन, आलिवर और शावर, श्वाब, व कई अन्य शिक्षाविदो ने प्रस्तावित किया | जांच उपागम खोज उपागम का ही विस्तारित रूप है हर जांच में खोज हमेशा होती है परन्तु हर खोज में जांच नहीं होती | इस विधि के कारण और प्रभाव सम्बन्ध स्थापित होता है और शिक्षक विधार्थियो को कोई संकेत नहीं देता |

यह वास्तव में शिक्षार्थी केन्द्रित विधि है | इस विधि में शिक्षक शिक्षार्थियो को एक समस्या प्रतिकूल घटना हल करने के लिए देता है | फिर शिक्षार्थी शिक्षक से प्रश्न पूछते है और आंकड़े (डाटा) इकटठा करते है | फिर शिक्षार्थी अलग-अलग परिकल्पनाओ का परिक्षण करते है अन्तः में प्रतिकूल घटना के लिए एक संतोषजनक स्पष्टीकरण ढून्ढ लेते है |

एक सामान्य क्रम इस प्रकार है :-
CR....JR....SR....AR....
हालाँकि खोज और जांच का क्रम सामान है, जांच की प्रारंभिक अवस्था में शिक्षार्थी आंकड़े इकटठा करने के प्रतिकूल घटना से सम्बंधित प्रश्न शिक्षक से पूछते है | नीचे दे गई विधि जायसी और वैल (1985) द्वारा प्रस्तावित 'जांच प्रशिक्षण माडल' पर आधारित है | प्रश्न पूछने के मुख्य नियम इस प्रकार है :-
  • प्रश्नों की भाषा ऐसी हो की उत्तर 'हाँ या नहीं' में आये |
  • एक बार में एक विधार्थी जितने चाहे प्रश्न पूछ सकता है |

विज्ञानं में योजना बनाना व पाठ्यक्रम पूरा करना
आपने अपने विद्यालय के स्टाफ-रूम में ये शब्द सुने होगे :
  • "पाठ्यक्रम पूरा करने के लिए कभी भी पर्याप्त समय नहीं मिलता|"
  • "विज्ञान पाठ्यक्रम इतना ज्यादा और मुश्किल है|"
  • "मैंने विज्ञान के पाठो के लिए एक कमाल की वेबसाइट खोजी है|"
  • मुझे पाठ्यचर्चा पूरनी करने के लिए अतिरिक्त भाषण लेने की आवशयकता है|"

आपने ये शब्द स्वयं भी बोले होंगे | आइये इस अवधारणा के बारे में सही व स्पष्ट जानकारी ले | 'करिकुलम' शब्द (पाठ्यक्रम) लेटिन भाषा के शब्द 'क्युरेर' से लिए गया है जिसका अर्थ है 'रथ की दौड़' | फिर भी करिकुलम का अर्थ एक पथ पर दौड़ से कही अधिक है और इसे समझने व् शिक्षा को क्रियात्मक अर्थ देने की आवश्यकता है | इसे शिक्षक व शिक्षार्थी के बीच संयोगं कड़ी के रूप में देखा जाना चाहिए ताकि शिक्षा के उद्देश्यों की प्राप्ति हो सके | यह एक दांचा प्रदान करता है जो अधिगम प्रक्रिया के बाहरी विन्यास को समझता है | वैबस्टर शब्दकोष में इसे परिभाषित किया गया है "एक विद्यालय द्वारा प्रस्तुत पठन का कोर्स" पाठ्यक्रम को निम्न प्रकार से समझा जा सकता है : 
  • विषय वास्तु : ज्ञान का पुंज जिसे संपादित (पूरा) करना है | इसे पाठ्यचर्चा के समान माना जाता है |
  • उत्पाद :  शिक्षार्थियो द्वारा कुछ उददेश्य प्राप्ति के लिए प्रयास | उददेश्य निर्धारति किये जाते है, विषय-वस्तु की योजना बनाई व् प्रयोग की जाती है और अधिगम प्रतिफल निर्धारित किये जाते है | इस प्रकार यह एक व्यवस्थित अध्ययन का उत्पाद है |
  • प्रक्रिया :  शिक्षक अपनी भूमिका के बारे में आलोचनात्मक सोच रखते है, शिक्षण उद्देश्यो के आधार पर क्रियाकलाप प्रस्तावित करते है, उन्हें शिक्षार्थियो की आवश्यकतानुसार बदलते है, क्रियाकलाप का प्रदर्शन करते है, सोचते है, प्रेरित करते है और शिक्षार्थियो के साथ वार्तालाप करते है वे प्रक्रिया व प्रतिफलो का निरंतर मूल्यांकन करते है |

विज्ञानं पाठ्यक्रम की योजना

विज्ञान पाठ्यक्रम की योजना आपको निम्न में से एक उचित प्रावधान सुनिश्चित करने में व् बहुत कुछ और भी सहायता करता है :
  • वैज्ञानिक अवधारणाओ के व्यापक रेंज तक पहुँच
  • वैज्ञानिक ढंग से कार्य करने के मौके पाठ्यक्रम के विभिन्न पहलुओ के बीच संतुलन
  • विज्ञान और तकनीकी का समावेश
  • जांच आधारित क्रियाकलाप
  • पर्यावरण की खोज व जांच करने के क्रियाकलाप
  • वैज्ञानिक विचारो के विकास में व् खोज सम्बन्धी कौशलो के प्रयोग में निरंतरता व प्रगति प्रदान करता है|


इसके अतिरिक्त, एक तरफ वैज्ञानिक ज्ञान के विकास व् समझ और दूसरी ओर वैज्ञानिक ढंग से कार्य करने के प्रक्रियाओ में संतुलन होना चाहिए |

No comments