Deled Course 507 Assignment 2 Answer 1

Share:
Deled course 507 Assignment 2 के 1 Answer के साथ आज मैं आया हु इसको आप अपने असाइनमेंट में कुछ फेर बदल करके लिख सकते है
इसके पीछे के प्रश्नों के लिए आपको वेबसाइट के मैं पेज में जाकर सर्च में deled टाइप करके सारे answer पा सकते है

अगर आप deled असाइनमेंट बना रहे है तो इस वेबसाइट की हेल्प से आप जल्द से जल्द अपना असाइनमेंट कम्पलीट कर सकते है मैं डेली वेबसाइट को अपडेट करता हु अगर आपको nios या course से रिलेटेड मदद चाहिए तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करे.
Deled Course 507 Assignment


प्रश्न:- नेतृत्व क्या हैं ? एक शिक्षक के लिए यह महत्वपूर्ण क्यों हैं ? नेतृत्व की शैलियाँ कौन सी हैं ? अपने शिक्षार्थियों के उपयुक्त विकास हेतु आप कौन – सी नेतृत्व शैली अपनाएंगे और क्यों ?

उत्तर :- नेतृत्वा की परिभाषा अलग – अलग व्यक्ति द्वारा दी गयी हैं | जो इस प्रकार हैं -

वारेन बेंनिस (१९७५) के अनुसार :-
नेतृत्व स्वयं का जानने का एक कार्य हैं जिसमे एक दृष्टि है जो अच्छी तरह संप्रेषित , सह्जोगियों में विकास बनाने वाली तथा प्रभावी एक्सन लेने में अपने नेतृत्व क्षमता को स्वीकार करता हैं 

एलन कीथ (२००९) के अनुसार :-
नेतृत्व अंतत लोगो के लिए कुछ विलक्षण होने में योगदान करने का एक तरीका सृजित करने के बारे में हैं 

ken ogbonnia (२०११) के अनुसार :-
प्रभावी नेतृत्व संगठनात्मक या सामाजिक लक्ष्यों के प्राप्ति के लिए आंतरिक एवं व्रह्वा वातावरण के अंतर्गत उपलबद्ध संसाधनों को सफलता पूर्वक एकीकृत करने एवं उच्चतम सीमा तक बढ़ाने की योग्यता हैं 


नेतृत्व शिक्षक के लिए भी महत्वपूर्ण हैं -
यह शिक्षक के लिए यह काफी महत्वपूर्ण हैं | किसी विद्यालय व्यवस्था में प्रबंधकीय एवं नेतृत्व कार्य सहभागी हैं | जबकि एक कार्य दुसरे से विभेदीकरण का व्यवहारिक तरीका उन्हें सामान्य कार्यकारी सततता दो छोरो के रूप में अनिवार्य रूप से देखता हैं | वे प्रशंसात्मक क्रियाओं में अनिवार्य एवं स्वाभाविक रूप से रहते हैं | नेतृत्व विषमता में प्रधानाचार्य के कार्य के अंत वैयकितक पहलुओ से अधिक संबद्ध हैं और इन वैक्कितक पहलुओ को शिक्षक नेता की भूमिका को बढ़ाना अपेक्षित हैं | युनकी यह विद्यालय समुदाय वातावरण में विशेष रूप से संतुलन बनाए रखता हैं | जब यह एक क प्रबंध के रूप में यह योजना करने , संघटन करने और नियंत्रण करने का कार्य करता हैं |
नेतृत्व की शैलियाँ :-
नेतृत्व की शैलिय मुख्यत चार प्रकार की होती हैं | जो निम्नलिखित हैं |

अहसत्क्षेप वाला नेतृत्व शैली :- एक हस्तक्षेप वाला नेतृत्व , नेता कर्मचारियों को उनके निर्णय करने की अनुमति देता हैं | नेता प्राय अपने को कागजी कार्यो में व्यस्त रहता हैं | ताकि वह समूह के सदस्यों से दूर रहे | नेता अपने कार्य का बड़ा भाग विद्यार्थियों एवं कर्मचारियों को विद्यालय में अशांति पैदा करने में दूर करने से मानता हैं |

निरंकुश शैली :- निर्माण की सभी शक्तियां नेता में केन्द्रित हैं जैसे तानाशाहों में होती हैं | नेता अधिनस्थो के सुझाव या पहलों को नहीं मानता हैं | यह यह निरंकुश नेतृत्व शैली का अर्थ हैं |

सुस्त नेतृत्व शैली :-  सुस्त नेतृत्व का अर्थ हैं यह खुला एवं असंरचित हैं | इसका प्रविधियो , नियमो , कानूनों और प्रनालिओं के लिए बहुत थोडा उपयोग हैं | इससे जुदा दर्शन यह है की विद्यालय और समुदाय में संबंध कार्य बिना एक संरचना के हो जायेंगे |

प्रजातान्त्रिक नेतृत्व शैली :-  इसमे विद्यार्थी , शिक्षक , सहयोगी एवं समुदाय के सदस्य समुदाय में सभी तक प्रारंभिक शिक्षा को पहुचने में मेरे प्रयासों में सार्थक सहयोगी हैं |

अपने शिक्षार्थियों के विकास हेतु सुस्त नेतृत्व शैली और प्रजातान्त्रिक शैली को अपना सकते हैं | क्यूंकि यह विस्त्रित्व रूप से अभिज्ञात और स्वीकृत है की विद्यालय समुदाय संबंधो के परिवेश में एक विद्यालय की प्रभाविकता बहुत कुछ शिक्षक नेता के सार्थक कार्यो पर निर्भर करता हैं | एक विद्यालय शिक्षक की विद्यार्थियों स्टाफ सदस्यों के साथ – साथ समुदाय के सदस्यों से अपेक्षाएं होती हैं | ऐसे मामले में शिक्षक एक जटिल स्थिति में होता हैं और उसके कार्यो और उत्तरदायित्व को समझता हैं |

Deled Course 507 Assignment 2 Answer 2


एक शिक्षक नेता का निर्माण अधिगम और चिंतन की एक जटिल प्रक्रिया हैं जो विद्यालय समुदाय संबंधो में समाजीकरण और एक नयी भूमिका में कार्य को अंगीकृत करने की अपेक्षा करता हैं |

No comments